खाद वितरण का व्यापार कैसे करें How to start a fertilizer distribution business

हमारे देश की 75 प्रतिशत की जनसंख्या खेती पर ही निर्भर है। अब खेती में सभी चाहते कि उन्नत फसल की पैदावार करें। इसके लिए सही खाद बीज का प्रयोग करना जरूरी है। फसलों की अच्छी पैदावार के लिए उनकी बेहतर गुणवत्ता को देखते हुए कीटनाशक, बीज, खाद, उर्वरक अर्थात खाद बीज वितरण का कार्य अगर किया जाए तो बहुत ही फायदेमंद होता है तो आज इस पोस्ट में हम आपको खाद वितरण के व्यापार के बारे में बताने जा रहे।

आज हर इंसान चाहता है कि उसका खुद का व्यापार हो तो ऐसे में लोग अगर नया व्यापार करने के बारे में सोच रहे हैं तो खाद बीज का व्यापार करना बहुत ही अच्छा है, क्योंकि यह काम 12 महीने चलने वाला होता है और इसके लिए किसी तरह की कोई परेशानी भी नहीं होती है। 

 आज बहुत तेजी से लोगों के द्वारा खाद बीज का काम किया जा रहा है। क्योंकि यह व्यापार बहुत ही फायदेमंद होता है।12 महीने हमारे देश में अलग-अलग प्रकार की खेती की जाती है। उन सभी खेती के लिए अलग-अलग तरह के खाद बीज का प्रयोग किया जाता है। जिससे फसल को उत्तम बनाया जा सके। 

खाद बीज के व्यापार को अगर कोई भी व्यक्ति ग्रामीण क्षेत्र में शुरू करना चाहता है तो बहुत ही मुनाफे का व्यापार होता है क्योंकि अक्सर किसान खेती गांव में करते हैं और गांव से ही जुड़े हुए रहते हैं। इसलिए गांव में फर्टिलाइजर की दुकान खोलना व्यापार करना बहुत फायदेमंद है। 

आज के इस आर्टिकल में हम आप को खाद बीज की दुकान किस तरह से खोली जाती है। इसका रजिस्ट्रेशन कैसे होता है। इनके लिए किन डॉक्यूमेंट का होना जरूरी है। खाद बीज के बारे में सभी जानकारी आपको इस पोस्ट के माध्यम से ले ले जा रहे हैं…

खाद बीज का काम क्या होता है?

हमारे देश के अधिकतर जनसंख्या गांव में रहती है जब वह जनसंख्या गांव में रहती है। कुल मिलाकर पूरी तरह से गांव में किसान खेती पर ही निर्भर रहते है। अगर किसान वर्ग के लोग खेती नहीं करते हैं। इससे संपूर्ण देश में देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी लोगों को अन्न कहां से मिलेगा।

 किसी के लिए सरकार के द्वारा किसानों को बढ़ावा देने के लिए उनकी खेती के लिए तरह-तरह की योजनाओं का संचालन विचार किया जाता है। खाद उर्वरक और वितरण का काम सरकार के कंट्रोल में रहता है।

खाद वितरण का अगर काम शुरू करना चाहते थे। इसके लिए आपको गांव के सरपंच प्रधान आदि के माध्यम से खाद वितरण की प्रणाली के बारे में जितने भी आसपास के गांव में दूर-दराज में आने वाले किसान है। उन सभी से संपर्क करना होगा। और उन सभी के लिए अच्छे और उन्नत किस्म के खाद उर्वरक उपलब्ध भी करवाना होगा।

मौसम के अनुसार खाद वितरण का काम

हमारे देश में किसानों का अधिकतर समय खेतों पर ही व्यतीत होता है। क्योंकि 4 महीने में फसल पूरी तरह पक कर तैयार होती है। उसके बाद यह वह सभी लोगों के लिए खाने के योग्य होती है। 

अगर आप खाद्य वितरण का व्यापार शुरू करना चाहते हो तो उसके लिए आपको मौसम के अनुसार हर फसल के लिए दवाइयां खरीदनी होंगी। आप अपनी दुकान में अगर किसानों की खेती के लिए मौत की दवाइयां रखेंगे। इससे आप को नुकसान उठाना पड़ सकता है इसीलिए आप हर मौसम के अनुसार बदलते हुए फसल के लिए सभी प्रकार की दवाई रखें।

इससे आपका काम सही चलेगा। आपको अच्छा मुनाफा भी हो सकता है। खाद बीज के काम में हाइब्रिड और देसी दोनों प्रकार के अगर आप भी इस रखेंगे तो किसान भी सभी तरह के बीच को खरीदना पसंद करेंगे।

खाद वितरण काम के लिए लोन

अगर आप व्यापार करने के बारे में सोच रहे हैं तो जब सारी प्रक्रिया व्यापार करने के लिए पैसे के ऊपर निर्भर करती है क्योंकि इतना पैसा किसी के पास भी होता है। ऐसे में आप सरकार के द्वारा प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना का फायदा उठाकर और खाद्य वितरण काम के लिए ₹1000000 तक का लोन ले सकते हो। इससे आपका व्यापार आसानी से खुल जाएगा।

खाद वितरण लाइसेंस

खाद वितरण का व्यापार शुरू करने के लिए लाइसेंस की जरूरत जरूरत पड़ती है। अगर आप काम शुरू करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको कृषि विभाग के ऑफिस में जाकर या फिर ऑनलाइन अपना लाइसेंस बनवाना होगा। इसके लिए आपको कुछ जरूरी डॉक्यूमेंट व कुछ 4 दिन भी देने होंगे।

 तब आपका खाद बीज का लाइसेंस बन जाएगा। इससे आप अपनी दुकान को खोल सकते हो। लाइसेंस के लिए अलग-अलग राज्यों के लिए अलग-अलग फीस का निर्धारण किया गया है। इसके अलावा जीएसटी नंबर की भी जरूरत पड़ती है।

खाद बीज के लिए मार्केटिंग

खाद बीज के काम के लिए आपको मार्केटिंग देखकर नहीं होगी। इसके लिए आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरीके से मार्केटिंग कर सकते हैं। जब भी आप खाद बीज का काम शुरू करो तो इसके लिए सबसे पहले आपको अपनी दुकान की मार्केटिंग बढ़ाने के लिए जितने भी लोग आपकी दुकान पर हैं। 

उन सभी के लिए आपको फसलों में लगने वाली सभी प्रकार की दवाई खाद कीटनाशक सभी पर डिस्काउंट देने होंगे। इसके अलावा पहली बाहर आने वाले सभी किसानों के लिए आकर्षक गिफ्ट भी रखने  होंगे। कृषि सेवा केंद्र में आपको कंसल्टेंसी का चार्ज फ्री रखना होगा। इससे अधिक से अधिक संख्या में किसान आपकी दुकान पर आएंगे और आप की बिक्री भी पड़ेगी दुकान का प्रचार भी अच्छा होगा।

अगर आप ऑनलाइन प्रचार करना चाहते हैं तो आजकल सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर ऐसे बहुत से ग्रुप हैं जिनमें किसान जुड़े हुए रहते हैं। ऐसे में किसानों से जुड़े हुए ग्रुप भी बहुत से आपको मिल जाएंगे तो वहां पर आप अपने सभी के दवाई , कीटनाशक की सभी तरह की जानकारी डाल सकते हो। 

ताकि किसान आपसे वही उचित परामर्श ले सके। और आपकी बात को समझे। ओर आपकी दुकान का सामान लेने के लिए भी लोग अधिक से अधिक संख्या में आये।

Conclusion

आज सरकार के द्वारा खेती को किसानों को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने जगह-जगह फ्री कंसलटेंसी भी किसानों के लिए खोल रखी है ताकि अधिक से अधिक लोग उन्नत किस्म की फसल को पैदा करने के लिए सही खाद बीज का प्रयोग कर सकें।

आज इस पोस्ट में हमने आपको खाद बीज का व्यापार कैसे करें। इसके बारे में जानकारी प्रदान की है। हम उम्मीद करते हैं कि आपको जो भी इनफार्मेशन इस लेख में दी है। वह आपको जरूर पसंद आएगी। अगर आपको हमारा लेख अच्छा लगा तो कमेंट सेक्शन में जाकर कमेंट करके बता सकते हैं।

Popular Post

PUBG mobile lite hack download

PUBG mobile lite hack download की पूरी Step-by-Step जानकारी

1
अगर आप इस लेख पर आए है तो हम उम्मीद करते हैं कि आप अब जी के बहुत बड़े फैन होंगे अगर आप चाहते...

Y2Mate YouTube Video Downloader- Download Audio, Video In HD Quality.

0
आज के इस डिजिटल युग मे एक जहाँ सोशल मीडिया ऍप्लिकेशन्स का प्रयोग अधिक प्रचलन में देखा जा रहा हैं, ऐसे में विभिन्न विभिन्न...

My Tools Town- Increase Like & Subscribers.

1
आज के समय मे जिस प्रकार से सोशल मीडिया ऐप्लकैशन पर लाइक व फॉलोवर्स का ट्रेंड बहुत ही तेजी से बढ़ रहा हैं, उसे...

जन सूचना अधिकार अधिनियम – RTI क्या हैं?

2
किसी भी प्रदेश मे बेहतर साशन व प्रसाशन को बनाए रखने के लिए समान अधिकार प्रदान किए जाते हैं। जिसके चलते कोई भी व्यक्ति...
kalyan chart

kalyan chart – कल्याण चार्ट की पूरी जानकारी

0
क्या आप बिल्कुल कम समय में अमीर बनना चाहते हैं? अगर हां तो आप इस वक्त बिलकुल सही जगह पर है। हम यह नहीं...