ITI Ke Baad Kya Kare? आईटीआई के बाद क्या करे?

शिक्षा एक ऐसा माध्यम है, जिसे न कभी विभाजित किया जा सकता है, ओर न ही उपयोगहीन किया जा सकता है। आज के समय मे हमारे पास अनेकों विकल्प व शाखाये है, जिनकी मदद से हम अपना अध्यन सम्पन्न कर सकते है। जी हाँ, तकनीकी से लेकर मैनिज्मन्ट तक के लिए हमारे पास बेहतर संस्थान व पाठ्यक्रम मोजूद है। आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम एक ऐसे ही सामान्य विषय पर चर्चा करेंगे जिसको लेकर अनेकों विद्यार्थियों के बीच संशय रहता है। जी हाँ, हम बात करेंगे आईटीआई के बाद क्या करे? तो बिना देरी किए शरू करते है, आज की इस पोस्ट को। 

ITI Ke Baad Kya Kare?

आईटीआई क्या है?

ITI,औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान के लिए जाना जाता है। ये संस्थान प्रशिक्षण महानिदेशालय (DGT), कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय और केंद्र सरकार के अधीन कार्य करते हैं। ये संस्थान विज्ञान में माध्यमिक स्तर की शिक्षा पूरी करने के बाद औद्योगिक और तकनीकी प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। लगभग हर राज्य विभिन्न तकनीकी और गैर-तकनीकी ट्रेडों या स्ट्रीम, जैसे मशीनिस्ट, वेल्डर, फिटर, फुटवियर मेकर आदि में औद्योगिक प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए अपनी आईटीआई प्रवेश परीक्षा आयोजित करता है।

यूपी में, यह परीक्षा राज्य व्यावसायिक प्रशिक्षण परिषद द्वारा अपने स्वयं के, सहायता प्राप्त और निजी स्वामित्व वाले और संचालित प्रशिक्षण केंद्रों और संस्थानों में विभिन्न ट्रेडों में प्रवेश के लिए आयोजित की जाती है।

यह भी पढिए:  E kalyan Bihar 10th pass 2022

एक उम्मीदवार के लिए इन परीक्षाओं के लिए पात्र होने के लिए न्यूनतम पात्रता मानदंड न्यूनतम 14 वर्ष की आयु प्राप्त करना है और इंजीनियरिंग और तकनीकी ट्रेडों के लिए विज्ञान में कक्षा 10 वीं और गैर-तकनीकी ट्रेडों के लिए कक्षा 8वीं पूरी करना है। आवेदकों के लिए कोई ऊपरी आयु सीमा नहीं है।

स्ट्रीम-विशिष्ट पाठ्यक्रम के आधार पर छात्रों को दिए जाने वाले पाठ्यक्रम 1 से 2 वर्ष के बीच भिन्न होते हैं। इन पाठ्यक्रमों में अन्य पारंपरिक स्नातक पाठ्यक्रमों की तुलना में कम समय में अधिक रोजगार क्षमता के कारण आवेदकों की संख्या में वृद्धि देखी गई है।

ITI के बाद क्या चुने?

आईटीआई के बाद अध्यन को आगे बढ़ाने के लिए अनेकों विकल्प है, जिनमे से कुछ इस प्रकार से है। 

  • B.Tech
  • Polytechnic
  • Railway Exam Preparation
  • Jobs in Industrial Sector
  • Non-Engineering course

आईटीआई पाठ्यक्रम ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों के बीच बहुत लोकप्रिय रहे हैं, क्योंकि ये पाठ्यक्रम इंजीनियरिंग और गैर-इंजीनियरिंग व्यापार में कौशल विकास प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। आईटीआई पाठ्यक्रम भी बहुत लोकप्रिय हैं क्योंकि सभी सरकारी और निजी उद्योगों को पेशेवर और मानव शक्ति की आवश्यकता होती है। हम यह नहीं भूल सकते कि दुनिया का सबसे बड़ा रोजगार क्षेत्र हमारा भारतीय रेलवे है। हर साल हमारे रेलवे विभाग द्वारा विभिन्न ट्रेडों में बड़ी संख्या में आईटीआई पासआउट छात्रों का चयन किया जाता है जो कि केंद्र सरकार की नौकरी है जो छात्रों के बीच आईटीआई पाठ्यक्रमों को और अधिक लोकप्रिय बनाती है।

एक आईटीआई पासआउट छात्र के लिए आगे की पढ़ाई का सबसे अच्छा विकल्प डिप्लोमा / पॉलिटेक्निक कोर्स करना है। आमतौर पर डिप्लोमा कोर्स को पूरा करने में तीन साल लगते हैं, लेकिन अगर आप आईटीआई पास हैं तो आपको लेटरल एंट्री के जरिए डिप्लोमा कोर्स के दूसरे वर्ष में प्रवेश मिलेगा। आपके डिप्लोमा का क्षेत्र इस बात पर निर्भर करता है कि आपने आईटीआई कोर्स में कौन सा ट्रेड लिया है।

प्रशिक्षुता आमतौर पर आईटीआई के बाद एक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम है। शिक्षुता कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य वास्तविक समय और कार्योन्मुखी कार्य के साथ छात्रों के कौशल को निखारना और तेज करना है। इस कार्यक्रम की अवधि आमतौर पर एक वर्ष है। सरकारी और निजी दोनों क्षेत्र प्रशिक्षु प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। अपना अपरेंटिस प्रशिक्षण पूरा करने के बाद छात्रों को एक परीक्षा देनी होती है, परीक्षा पास करने के बाद आपको सरकार द्वारा एक शिक्षुता प्रमाणपत्र प्रदान किया जाएगा। इसके बाद आप सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों में विभिन्न नौकरियों के लिए आवेदन कर सकते हैं।

आईटीआई कोर्स के बाद छात्र ऑल इंडिया ट्रेड टेस्ट (एआईटीटी) भी पास कर सकते हैं। ऑल इंडिया ट्रेड टेस्ट हर साल एनसीवीटी (नेशनल काउंसिल ऑफ वोकेशनल ट्रेनिंग) द्वारा आयोजित किया जाता है। परीक्षण को छात्र के कौशल और सैद्धांतिक ज्ञान की जांच करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद छात्रों को राष्ट्रीय व्यापार प्रमाणपत्र (एनटीसी) से सम्मानित किया जाता है।

 नेशनल ट्रेड सर्टिफिकेट एनसीवीटी (नेशनल काउंसिल ऑफ वोकेशनल ट्रेनिंग), भारत सरकार द्वारा प्रदान किया जाता है जो डिप्लोमा कोर्स के बराबर है। आईटीआई कोर्स पूरा करने के बाद छात्र ग्रेजुएशन कोर्स/डिग्री कोर्स में भी एडमिशन ले सकते हैं। लेकिन डिग्री कोर्स में एडमिशन लेने के लिए एक शर्त है कि आपके पास सीनियर सेकेंडरी सर्टिफिकेट/12वीं की मार्कशीट होनी चाहिए। यदि आपके पास एक नहीं है, तो इसके बारे में चिंता न करें। 

आईटीआई कोर्स पूरा करने के बाद आप 12वीं की अंकतालिका प्राप्त करने के लिए वरिष्ठ माध्यमिक समकक्ष परीक्षा से गुजर सकते हैं। सीनियर सेकेंडरी सर्टिफिकेट हासिल करने के लिए आपको केवल एक भाषा के पेपर यानी हिंदी या अंग्रेजी को क्वालिफाई करना होगा और चार विषयों के अंक आपसे आईटीआई कोर्स की मार्कशीट में लिए जाएंगे।

Popular Post

PUBG mobile lite hack download

PUBG mobile lite hack download की पूरी Step-by-Step जानकारी

1
अगर आप इस लेख पर आए है तो हम उम्मीद करते हैं कि आप अब जी के बहुत बड़े फैन होंगे अगर आप चाहते...

Y2Mate YouTube Video Downloader- Download Audio, Video In HD Quality.

0
आज के इस डिजिटल युग मे एक जहाँ सोशल मीडिया ऍप्लिकेशन्स का प्रयोग अधिक प्रचलन में देखा जा रहा हैं, ऐसे में विभिन्न विभिन्न...

My Tools Town- Increase Like & Subscribers.

1
आज के समय मे जिस प्रकार से सोशल मीडिया ऐप्लकैशन पर लाइक व फॉलोवर्स का ट्रेंड बहुत ही तेजी से बढ़ रहा हैं, उसे...

जन सूचना अधिकार अधिनियम – RTI क्या हैं?

2
किसी भी प्रदेश मे बेहतर साशन व प्रसाशन को बनाए रखने के लिए समान अधिकार प्रदान किए जाते हैं। जिसके चलते कोई भी व्यक्ति...
kalyan chart

kalyan chart – कल्याण चार्ट की पूरी जानकारी

0
क्या आप बिल्कुल कम समय में अमीर बनना चाहते हैं? अगर हां तो आप इस वक्त बिलकुल सही जगह पर है। हम यह नहीं...