Rabindranath Tagore- Story of Rabindranath Tagore.

भारत देश मे शुरुआत से ही अनेकों दार्शनिक, कवि व ज्ञानवान व्यक्तियों ने जन्म लिया है, जिन्होंने अपने बुद्धि कौसल से भारत के विकास मे अपना एक अहम योगदान दिया है। साथ ही करोड़ों लोगों के जीवन मे ऊर्जा का संचार प्रदान किया है। आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम एक ऐसे ही एक महान व्यक्ति के विषय मे चर्चा करेंगे जिन्हे कवि, उपन्याशकार के रूप मे जाना जाता है। जी हाँ, हम बात करेंगे Rabindranath Tagore की जिन्हे नोबल पुरुस्कार से भी सम्मानित किया गया था। तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको रबिन्द्रनाथ टागोर के जीवन परिचय के विषय मे विस्तार से जानकारी देंगे। 

Rabindranath Tagore- Story of Rabindranath Tagore.

Rabindranath Tagore कौन थे?

रवींद्रनाथ टैगोर, जिन्होंने भारत के राष्ट्रगान की रचना की और साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार जीता, हर मायने में एक बहुप्रतिभाशाली व्यक्तित्व थे। वह एक बंगाली कवि, ब्रह्म समाज दार्शनिक, दृश्य कलाकार, नाटककार, उपन्यासकार, चित्रकार और संगीतकार थे। वह एक सांस्कृतिक सुधारक भी थे जिन्होंने बंगाली कला को शास्त्रीय भारतीय रूपों के दायरे में सीमित करने वाली सख्ती को खारिज कर दिया। हालांकि वे एक बहुश्रुत थे, उनकी साहित्यिक कृतियाँ ही उन्हें सर्वकालिक महानों की कुलीन सूची में स्थान देने के लिए पर्याप्त हैं। 

यह भी पढिए: What is Google Assistant? गूगल असिस्टेंट क्या है?

आज भी, रवींद्रनाथ टैगोर को अक्सर उनके काव्य गीतों के लिए याद किया जाता है, जो आध्यात्मिक और मधुर दोनों हैं। वह अपने समय से आगे के उन महान दिमागों में से एक थे, और यही कारण है कि अल्बर्ट आइंस्टीन के साथ उनकी मुलाकात को विज्ञान और अध्यात्म के बीच संघर्ष के रूप में माना जाता है। टैगोर अपनी विचारधाराओं को दुनिया के बाकी हिस्सों में फैलाने के इच्छुक थे और इसलिए उन्होंने जापान और संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे देशों में व्याख्यान देते हुए एक विश्व दौरे की शुरुआत की। 

जल्द ही, उनके कार्यों की विभिन्न देशों के लोगों ने प्रशंसा की और वे अंततः नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले गैर-यूरोपीय बन गए। जन गण मन (भारत का राष्ट्रीय गान) के अलावा, उनकी रचना ‘अमर शोनार बांग्ला’ को बांग्लादेश के राष्ट्रीय गान के रूप में अपनाया गया था और श्रीलंका का राष्ट्रगान उनके एक काम से प्रेरित था।

रवीन्द्रनाथ टागोर का बचपन किस प्रकार से गुजरा?

रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म 7 मई 1861 को देबेंद्रनाथ टैगोर और शारदा देवी के घर कलकत्ता में जोरासांको हवेली (टैगोर परिवार का पैतृक घर) में हुआ था। वह तेरह बच्चों में सबसे छोटा बेटा थे। हालांकि टैगोर परिवार में कई सदस्य थे, लेकिन उनका पालन-पोषण ज्यादातर नौकरों और नौकरानियों द्वारा किया गया था क्योंकि उन्होंने अपनी माँ को कम उम्र मे ही खो दिया था। 

रबिन्द्रनाथ टागोर ने एक निविदा में कला कार्यों की रचना भी शुरू कर दी थी। और सोलह वर्ष की आयु तक उन्होंने छद्म नाम भानुसिंह के तहत कविताएं प्रकाशित करना शुरू कर दिया था। उन्होंने 1877 में अपने द्वारा कहानिया व कविताओ को अपने द्वारा एक नवीन रूप देखर लिखा। 

रबिन्द्रनाथ टागोर ने कालिदास जी के जीवन शैली से सीख लेकर अपने कलात्मक सफर की शुरुआत की। जबकि उनके बड़े भाई द्विजेंद्रनाथ एक कवि और दार्शनिक थे, उनके एक अन्य भाई भी थे, जिनका नाम सत्येंद्रनाथ था। व एक बहुत ही सरल व सम्मानजनक स्थिति में थे। उनकी बहन स्वर्णकुमारी एक प्रसिद्ध उपन्यासकार थीं।

और उन्हें उनके भाई-बहनों द्वारा जिमनास्टिक, मार्शल आर्ट, कला, शरीर रचना, साहित्य, इतिहास और गणित सहित कई अन्य विषयों में प्रशिक्षित किया गया था। 1873 में, जब वो अपने पिता के साथ स्थानीय दौरे पर गए, तब उन्होंने उनके साथ अनेकों स्थानों पर ज्ञान अर्जित किया। 

रबिन्द्रनाथ टागोर की शिक्षा किस प्रकार से रही?

रवींद्रनाथ टैगोर की पारंपरिक शिक्षा ब्राइटन, ईस्ट ससेक्स, इंग्लैंड में एक पब्लिक स्कूल में शुरू हुई। उन्हें वर्ष 1878 में इंग्लैंड भेजा गया था क्योंकि उनके पिता चाहते थे कि वे बैरिस्टर बनें। बाद में उनके कुछ रिश्तेदारों जैसे उनके भतीजे, भतीजी और भाभी ने उनके साथ इंग्लैंड में रहने के दौरान उनका समर्थन किया। रवीन्द्रनाथ ने हमेशा औपचारिक शिक्षा का तिरस्कार किया था और इस प्रकार अपने स्कूल से सीखने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। 

बाद में उन्हें लंदन के यूनिवर्सिटी कॉलेज में दाखिला मिला, जहाँ उन्हें कानून सीखने के लिए कहा गया। लेकिन उन्होंने एक बार फिर पढ़ाई छोड़ दी और शेक्सपियर की कई कृतियों को अपने दम पर सीखा। रबिन्द्रनाथ टागोर ने राष्ट्रगान प्रस्तुत कर जो भारत के लिए अपनी अहम भूमिका का वर्णन दिया हैं, वो सर्वदा अमर रहने योग्य हैं। 

भारत मे अनेकों दार्शनिक व कवि रहे हैं, परंतु कुछ विशेष व्यक्तियों ने अपने विवेक से भारत के गौरव को बढ़ाया हैं। ऐसे ही महान व्यक्तित्व के रूप मे टागोर जो की जाना जाता हैं। आशा करते हैं, आज की इस पोस्ट के माध्यम से आपको रबिन्द्रनाथ टागोर के विषय मे विस्तार से जानकारी प्राप्त हुई होगी। नोबल पुरुस्कार विजेता रबिन्द्रनाथ टागोर के जीवन परिचय से जुड़ी सभी जानकारी को ध्यान मे रखते हुए भारत के विवेकवान पुरुष को स्मरण करे। 

Popular Post

PUBG mobile lite hack download

PUBG mobile lite hack download की पूरी Step-by-Step जानकारी

1
अगर आप इस लेख पर आए है तो हम उम्मीद करते हैं कि आप अब जी के बहुत बड़े फैन होंगे अगर आप चाहते...

My Tools Town- Increase Like & Subscribers.

1
आज के समय मे जिस प्रकार से सोशल मीडिया ऐप्लकैशन पर लाइक व फॉलोवर्स का ट्रेंड बहुत ही तेजी से बढ़ रहा हैं, उसे...

Y2Mate YouTube Video Downloader- Download Audio, Video In HD Quality.

0
आज के इस डिजिटल युग मे एक जहाँ सोशल मीडिया ऍप्लिकेशन्स का प्रयोग अधिक प्रचलन में देखा जा रहा हैं, ऐसे में विभिन्न विभिन्न...

जन सूचना अधिकार अधिनियम – RTI क्या हैं?

2
किसी भी प्रदेश मे बेहतर साशन व प्रसाशन को बनाए रखने के लिए समान अधिकार प्रदान किए जाते हैं। जिसके चलते कोई भी व्यक्ति...

Jio Phone Me Whatsapp Kaise Chalaye?

1
आज के इस आधुनिक युग मे एक जहाँ सोशल मीडिया ऐप्लकैशन का प्रचलन बहुत ही तेजी से चल रहा हैं। उसे देखते हुए हर...