Study tips in hindi स्टडी टिप्स इन हिंदी

आज हर मां बाप का हर स्टूडेंट का सपना होता है कि उनके बच्चे अच्छी पढ़ाई करके अपने भविष्य को सुरक्षित करें। अगर अच्छे से पढ़ाई कर लेंगे तो हर स्टूडेंट भविष्य में कामयाबी को हासिल कर लेंगे। इसीलिए आज का हमारा टॉपिक स्टडी टिप्स इन हिंदी। आपको इस लेख के माध्यम से पढ़ाई में अच्छे से मन कैसे लगाए जाते हैं इसके बारे में भी जानकारी देने जा रहे हैं।

Study tips in hindi स्टडी टिप्स इन हिंदी

अगर आप एक कॉलेज में या स्कूल स्टूडेंट है और आपको अपनी पढ़ाई में अच्छे मार्क्स लेकर आने हैं या फिर आप एक्सीडेंट से हैं और अपने बच्चों को पढ़ाई का सही महत्व समझाने वाले हैं तो इसके लिए आप अगर हमारी इस पोस्ट को ध्यानपूर्वक पढ़ेंगे तो आपको अपने बच्चों को पढ़ाई के महत्व को समझाने में मदद मिलेगी क्योंकि इस लेख में हम स्टडी के कुछ खास टिप्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो कि पढ़ाई में बहुत मददगार होंगे।

बहुत से छात्र आज भी ऐसे हैं जो आप पढ़ाई में अच्छे से मन लगाकर पढ़ना चाहते हैं लेकिन उनका मन पढ़ाई में लग नहीं पाता है। अगर आप पढ़ाई में अच्छे नंबर से पास होना चाहते हो, मन लगाकर पढ़ना चाहते हो तो आपको कुछ बेहतरीन टिप्स बता रहे हैं, जिनके द्वारा आपको पढ़ाई करने में आसानी होगी। आज के इस वातावरण में पढ़ाई से ध्यान हटने का एक साधारण सा कारण है, टीवी, मोबाइल फोन और आपके मन का विचलित होना। 

जिन बच्चों को पढ़ाई से सबसे अधिक विचलित करती हैं। उनमें से सबसे ज्यादा तो सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट,परिवार दोस्त, शोर शराबा, ऑनलाइन गेम आदि शामिल होते हैं। इनकी वजह से अक्सर हर स्टूडेंट का पढ़ाई में मन विचलित हो जाता है। इसीलिए इन सब चीजों को ध्यान में रखते हुए आइए जानते हैं कि स्टडी टिप्स इन हिंदी के बारे में जानकारी स्टडी टिप्स क्या होते हैं इन सभी के बारे में इसलिए इसमें जानकारी

स्टूडेंट के लिए स्टडी टिप्स

स्टडी अर्थात पढ़ाई करना भी एक तरह की कला ही होती है इसको सीखने के लिए अच्छी मेहनत और लगन की जरूरत पड़ती है। इसके अलावा पढ़ाई में निखार लाने के लिए इच्छा आदत जरूरत आदि को बहुत करीब से समझना पड़ता है। इसीलिए हम इस लेख के माध्यम से ही आपको कुछ स्मार्ट स्टडी टिप्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आपके पढ़ने की जीवन शैली और विकसित करने में आपको मदद प्रदान करेंगे।

1.पढ़ाई के लिए सही जगह का चुनाव

अपनी पढ़ाई का सही रूटीन बनाने के लिए सबसे पहले आपको अपने घर में पढ़ने के लिए एक सही स्थान का चुनाव करना होगा। आपकी पढ़ाई आपके परिवेश और वातावरण के ऊपर पूरी तरह निर्भर करती है इसीलिए सही स्थान का चुनाव करना बहुत जरूरी है। पढ़ने के लिए जगह का चुनाव करते समय कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

  • पढ़ाई के लिए एक दम शांत वातावरण का होना जरूरी है।
  • बैठने के लिए एक अच्छी कुर्सी और टेबल का प्रयोग करें।
  • किताबों को अच्छे से सही जगह पर रखने की सुविधा होनी चाहिए।
  • पढ़ाई वाले स्थान के कमरे के बाहर “do not disturb” का बोर्ड लगा ले ताकि आपको कोई परेशान ना करें।
  • पढ़ाई की शुरुआत करते समय अपने फैमिली वालों से मना कर द। वह आपको बार-बार कमरे में आकर डिस्टर्ब ना करें।

2.पढ़ाई को अपना डेली रूटीन का हिस्सा बनाएं

पढ़ाई एक योजना की तरह होनी चाहिए। पढ़ाई को आप एकाग्र चित्त अर्थात अपने मन को इधर-उधर की बातों में ना लगा कर करोगे और इसको करने के लिए एक सही योजना का चुनाव करते हो तो आपके लिए सही होगा। इसके लिए आपको अपना डेली रूटीन तय करने की आपको कितने घंटे बिना किसी काम के सिर्फ पढ़ाई पर ध्यान देना है, उसके अनुसार अपना एक टाइम टेबल चार्ट बनाने और उसके बाद में पढ़ाई शुरू करें।

  • पढ़ाई को दैनिक कार्य से अलग नहीं समझना चाहिए।
  • पढ़ाई करने के लिए हमेशा उत्साहित रहना चाहिए और एकाग्रचित्त होकर पढ़ना चाहिए।
  • कम से कम लगातार आपको 1 घंटे तक पढ़ाई करनी चाहिए इससे अधिक की पढ़ाई ना करें बीच में थोड़ा ब्रेक जरूर ले ले।
  • इस तरह से आप अपना रूटीन तय कर लेंगे तो आपको पढ़ने में आसानी होगी।

3. ध्यान भटकने वाली चीजों को रखे दूर

आप चाहते हैं कि आपको थोड़ा लंबे समय तक पढ़ाई करनी है तो सबसे पहले आप अपने मन को विचलित करने वाली अर्थात आपका ध्यान भटकाने वाली चीजों को अपने से बिल्कुल दूर रखें क्योंकि इन चीजों की वजह से आप अपना जो कीमती समय है उसको खत्म कर देंगे और अपनी पढ़ाई में याद किए हुए सभी पाठ्यक्रम को भूल जाएंगे इसीलिए इलेक्ट्रॉनिक यंत्र मोबाइल फोन टीवी इन सब चीजों से दूरी बना कर पढ़ाई करें तो सही होगा।

4. अच्छे से ध्यान लगाकर पढ़ना

विद्यार्थी जीवन का ही नहीं प्राचीन काल से एक मूल मंत्र रहा है अगर हर विद्यार्थी उसके अनुसार अपना पढ़ाई का नियम बना ले तो शायद पढ़ाई में कभी उसको है सफलता प्राप्त नहीं होगी कई विद्वानों के द्वारा बताया गया है कि” “काक चेष्टा बको ध्यानम श्वान निद्रा तथैव च अल्पाहारी ग्रह त्यागी विद्यार्थी पंच लक्षणम्।” अर्थात कौवे की जैसी नजर, बगुले का जैसा ध्यान, कुत्ते की जैसी नींद, कम भोजन करने वाला, यही विद्यार्थी जीवन के पांच महत्वपूर्ण लक्षण माने गए हैं एक विद्यार्थी के अंदर इन सभी चीजों का होना बहुत जरूरी है।

5. अनुशासन में रहना

लंबे समय तक आपको अपनी पढ़ाई को बरकरार अगर रखना है तो उसमें आपको अनुशासन को भी शामिल करना होगा। अपनी पढ़ाई में ध्यान लगाना है, तो हमेशा अनुशासन को बनाए रखना जरूरी है। आपका मन भले ही एक तरफ से दूसरी तरफ जाने लग जाए। लेकिन अनुशासन एक ऐसी चीज होती है। जो हर विद्यार्थी के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। इसीलिए जब भी आपका मन इधर-उधर भटकने लगे तो उसको रोके और अपने टाइम टेबल पर ही फोकस बनाएं।

निष्कर्ष

आज हमने इस लेख के माध्यम से स्टडी टिप्स इन हिंदी के बारे में जानकारी प्रदान करें इसमें हमने हर विद्यार्थी के जीवन में पढ़ाई को लेकर एक टाइम टेबल को सुनिश्चित करना चाहिए ताकि सही ढंग से अपनी पढ़ाई पर ही हर विद्यार्थी फोकस कर सकें। आपको जो भी इसमें हमने जानकारी दी है। वह आपको पढ़ाई करने में बहुत हेल्पफुल रहेगी। हमें उम्मीद है कि जो भी जानकारी दी है वह आपको जरूर पसंद आई होगी । अगर आपको यह पसंद आई तो कमेंट करके जरूर बताएं।

Popular Post

PUBG mobile lite hack download

PUBG mobile lite hack download की पूरी Step-by-Step जानकारी

1
अगर आप इस लेख पर आए है तो हम उम्मीद करते हैं कि आप अब जी के बहुत बड़े फैन होंगे अगर आप चाहते...

Y2Mate YouTube Video Downloader- Download Audio, Video In HD Quality.

0
आज के इस डिजिटल युग मे एक जहाँ सोशल मीडिया ऍप्लिकेशन्स का प्रयोग अधिक प्रचलन में देखा जा रहा हैं, ऐसे में विभिन्न विभिन्न...

My Tools Town- Increase Like & Subscribers.

1
आज के समय मे जिस प्रकार से सोशल मीडिया ऐप्लकैशन पर लाइक व फॉलोवर्स का ट्रेंड बहुत ही तेजी से बढ़ रहा हैं, उसे...

जन सूचना अधिकार अधिनियम – RTI क्या हैं?

2
किसी भी प्रदेश मे बेहतर साशन व प्रसाशन को बनाए रखने के लिए समान अधिकार प्रदान किए जाते हैं। जिसके चलते कोई भी व्यक्ति...
kalyan chart

kalyan chart – कल्याण चार्ट की पूरी जानकारी

0
क्या आप बिल्कुल कम समय में अमीर बनना चाहते हैं? अगर हां तो आप इस वक्त बिलकुल सही जगह पर है। हम यह नहीं...