टेलीफोन का आविष्कार किसने किया? Telephone ka avishkar kisne kiya?

पहले के समय में लोग चिट्ठियों के द्वारा अपने संदेशों को भेजते थे। उन चिट्ठियों को दूसरे स्थान पर पहुंचाने का काम कबूतरों के द्वारा करवाया जाता था। इसके बाद धीरे-धीरे संचार प्रणाली ने तरक्की की ओर हमारे देश में डाक व्यवस्था का आविष्कार हुआ। देश के हर हिस्से में डाकघर बनाए गए। फिर लोगों को और सुविधाएं हो गई अपने द्वारा लिखे संदेशों को डाक के द्वारा भेजकर और आसानी हो गई। फिर धीरे-धीरे फिर विज्ञान में तरक्की की उसका परिणाम यह निकला की आगे संचार व्यवस्था में और सुधार होने पर टेलीफोन का आविष्कार हुआ।

टेलीफोन का आविष्कार किसने किया? Telephone ka avishkar kisne kiya?

आज हम इस लेख के माध्यम से आपको यह जानकारी देने जा रहे हैं, टेलीफोन का आविष्कार कब हुआ,टेलीफोन का आविष्कार किसने किया, टेलीफोन के क्या क्या उपयोग होते हैं,आज टेलीफोन का उपयोग कितना बढ़ता जा रहा है, इन सभी बातों के बारे में आज हम आपको विस्तार से टेलीफोन का आविष्कार किसने किया लेख में बताने जा रहे हैं…

आखिर होता क्या टेलीफोन?

टेलीफोन एक ऐसा संचार का माध्यम है जिसके द्वारा हम अपनी बात दूसरे व्यक्ति के पास में बोल कर पहुंचा देते हैं। अगर सरल शब्दों में कहें तो टेलीफोन संसार का वह माध्यम है किसको टेलीकम्युनिकेशन भी कहा जाता है। इसकी मदद से दो व्यक्ति आपस में बात कर पाते हैं, चाहे व्यक्ति देश के किसी भी कोने में बैठे हुए हो वह अलग-अलग हिस्सों में रहकर भी अपनी बात आसानी से दूसरे व्यक्ति के पास पहुंचा देते हैं। इसको टेलीफोन कहा जाता है।

टेलीफोन एक ऐसा संसार का उपकरण है, जिसमें किसी भी व्यक्ति की ध्वनि को इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल में कन्वर्ट करता है, यह वॉइस केबल या तार की सहायता से दूसरे के फोन तक पहुंचा दी जाती है, और सामने वाले व्यक्ति को तहे आवाज ध्वनि के रूप में सुनाई देती है।

टेलीफोन का आविष्कार

आप सभी के मन में सवाल उठ रहे होंगे कि आखिर टेलीफोन को किसने बनाया होगा आपकी जानकारी के लिए बता दें कि टेलीफोन का आविष्कार स्कॉटलैंड के वैज्ञानिक एलेग्जेंडर ग्राहम बेल ने 2 जून सन 1875 में किया था। टेलीफोन का आविष्कार करने में अलग जेंडर ग्राहम बेल ले तामस वाटसन नाम के वैज्ञानिक की भी मदद ली थी। इसके बाद 7 मार्च 1876 को टेलीफोन का पेटेंट अपने नाम करके ग्राम बेल ऑफिशियल  टेलीफोन के जनक बन गए थे।

ऐसा भी माना जाता है कि टेलीफोन के आविष्कार के पीछे वैज्ञानिक ग्राम बेल एलेग्जेंडर की मां और पत्नी थी वह दोनों बहरी थी हमेशा सांकेतिक भाषा में बात करती थी। एलेग्जेंडर को ध्वनि विज्ञान के बारे में बहुत अच्छी जानकारी थी। इसी को आधार बनाकर ग्राहम बेल ने टेलीफोन का आविष्कार किया।

एलेग्जेंडर ग्राहम बेल ने टेलीफोन के अलावा फाइबर सिस्टम,फोटो फोन, बेल और डेसीबल यूनिट,मेटल-डिटेक्टर जैसे बड़े-बड़े आविष्कार भी किए हैं। लेकिन आज उनको मुख्य रूप से टेलीफोन के आविष्कार का जनक माना जाता है। पहले के समय में टेलीफोन का ही प्रयोग ज्यादा किया जाता था लेकिन आज दुनिया के प्रत्येक व्यक्ति के हाथ में टेलीफोन का आधुनिक रूप मोबाइल आ गया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पहले स्मार्टफोन और टेलीफोन के बीच में कीपैड फोन का चलन बहुत अधिक हुआ करता था उसके बाद में नए-नए मोबाइल और स्मार्टफोन आए हैं।

टेलीफोन का हिंदी में अर्थ

टेलीफोन को हिंदी में दूरभाष यंत्र कहा जाता है. आज भले ही मोबाइल फोन दूरसंचार का सबसे अधिक अत्याधुनिक संसाधन बन गया है, लेकिन मोबाइल फोन की शुरुआत भी टेलीफोन के एक एडवांस रूप वायरलेस फोन के अंतर्गत ही हुई है। आज 21वीं सदी में और वैज्ञानिकों की महत्वपूर्ण खोजों ने इस दूरसंचार के रूप का स्वरूप पूरी तरह बदल दिया है, और अब टेलीफोन की जगह स्मार्ट फीचर वाले नए-नए प्रकार के मोबाइल फोन आपको मार्केट में देखने को मिल सकते हैं।

टेलीफोन का आविष्कार भारत में

हमारे देश में सबसे पहले सन 1881 में एंग्लो इंडियन टेलीफोन लिमिटेड और ओरिएंटल टेलीफोन कंपनी लिमिटेड इंग्लैंड के द्वारा कोलकाता में, मद्रास मुंबई और अहमदाबाद में टेलीफोन एक्सचेंज स्थापित किए गए थे। इसके अलावा 28 जनवरी 1882 को कुल 94 ग्राहकों के साथ पहली बार पूरी तरीके से टेलीफोन की सेवाओं को शुरू किया गया था। जब इन कंपनियों ने सरकार से संपर्क करने की कोशिश की तो हमारी सरकार ने इस को मंजूरी नहीं दी लेकिन 1881 में ओरिएंटल टेलीफोन कंपनी लिमिटेड इंग्लैंड को भारत में टेलीफोन एक्सचेंज स्थापित करने की अनुमति दे दी।

टेलीफोन परहेलोबोलने का कारण

जब टेलीफोन का आविष्कार एलेग्जेंडर ग्राहम बेल ले किया तो उनको यह बात जानकर हैरानी हुई कि 1 तरह के दो टेलीफोन बनाए हैं, और दोनों ही उन्होंने अपने पास में रखें है। ऐसे में उन्होंने एक टेलीफोन को अपनी गर्लफ्रेंड का नाम दे दिया था। उनकी गर्लफ्रेंड का नाम मार्ग्रेट हेलो था।

उसके बाद टेलीफोन पर सर्च करने के लिए एक फोन अपनी गर्लफ्रेंड को दे दिया, और टेलीफोन की सभी तकनीकियो को दूर करके सबसे पहले उन्होंने अपनी गर्लफ्रेंड मार्टिन हेलो को फोन किया, और प्यार से उन्हें “हेलो” कहकर पुकारा था। जब भी वह अपनी गर्लफ्रेंड को फोन करते थे, तो उसको प्यार से हेलो कह कर ही बोलते थे। तब से लेकर आज तक यह शब्द प्रचलन में बहुत अधिक बढ़ गया है। सभी लोगों की जुबान पर चाहे टेलीफोन से बात करें या फिर मोबाइल फोन से पहला शब्द हेलो ही बोला जाता है। ” हेलो ” शब्द की देन भी एलेग्जेंडर को ही की जाती है

निष्कर्ष

टेलीफोन की आधुनिक प्रणाली मोबाइल फोन स्मार्ट फोन का उपयोग आज हर व्यक्ति करते हैं। आज हमने आपको इस आर्टिकल के द्वारा टेलीफोन का आविष्कार किसने किया के बारे में संपूर्ण जानकारी बताई है। आपको यह सब जानकारी पसंद आई है तो इनको लाइक शेयर जरूर कीजिए। अगर इससे जुड़ी हुई किसी भी समस्या के लिए या किसी प्रकार के सुझाव के लिए जी आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर कमेंट करके पूछ सकते हैं, और हमारी वेबसाइट से जुड़े रह सकते हैं।

Eassy on Republic Day

Eassy on Republic Day – गणतंत्र दिवस पर निबंध

0
आप हर साल 26 जनवरी को देश के हर ज क झंडे को लहराते देख सकते हैं इस दिन झंडा फहरा कर हम त्यौहार...
nepal ki jansankhya

nepal ki jansankhya – Population of Nepal

1
जैसा कि आप जानते हैं कि नेपाल एक ऐसा देश है जो कि 2 बड़े देश यानी कि भारत और चीन के बीच में...
Duniya me sabse jyada bole jane wali bhasha

Duniya me sabse jyada bole jane wali bhasha – आखिर कौन सी भाषा दुनिया...

0
दोस्तों आप इस बात को तो जानते ही होंगे कि दुनिया के हर क्षेत्र में अलग-अलग भाषाएं बोली जाती है। कहने का मतलब यह...
Bharat ka sabse swaksh seher

Bharat ka sabse swaksh seher – भारत का सबसे साफ और सुंदर शहर कौन सा...

0
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की जिसके बाद भारत में लगभग हर शहर, कस्बा और गांव अपने आप...

सिम पोर्ट कैसे करें? How to port sim?

0
अक्सर देखा जाता है कि लोगों के सामने किसी भी टेलीकॉम कंपनी के द्वारा मिल रही इंटरनेट की सुविधा, कॉलिंग की सुविधा को लेकर...
error: Content is protected !!