What are links? लिंक क्या होते हैं?

हेलो दोस्तों आज हम आपको बताने वाले हैं “लिंक क्या होते हैं” अक्सर लिंक के बारे में लोग बहुत कम जानकारी रखते हैं इसीलिए हम इस पोस्ट में आपको लिंक से जुड़ी हुई सभी प्रकार की जानकारी बताने जा रहे हैं। इसलिए अंत तक इस पोस्ट को ध्यानपूर्वक पढ़ें।

एक ऐसा शब्द है जो कि आपको सोशल मीडिया पर या फिर किसी भी दूसरे प्लेटफार्म पर आप ही से देखने को मिल जाता है। लिंक इंटरनेट पर किसी भी प्रोडक्ट या सर्विस तक पहुंचने का सीधा और एक आसान सा रास्ता होता है। लिंक किसी भी प्रोडक्ट सर्विस को लोगों तक पहुंचाने का एक माध्यम भी हो सकता है। किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट के सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के लिए लिंक बहुत जरूरी माने जाते हैं।

What are links? लिंक क्या होते हैं?

एक लिंक जिस को शार्ट में hyperlink भी कहते हैं। यह लिंक HTML ऑब्जेक्ट ही होता है। लिंक आपको किसी भी वेब पेज पर आसानी से देखने को मिल सकते हैं। जो कि किसी भी लोकेशन में जब आप jump करते हैं तो ये उसको allow करता है। लिंक को इमेज टैग या दूसरे एचटीएमएल एलिमेंट पर भी जोड़ा जा सकता है। अधिकतर टेक्स लिंक का कलर ब्लू ही दिखाई देता है क्योंकि ब्लू कलर एक स्टैंडर्ड कलर होता है और इसको वेब ब्राउजर में लिंक डिस्प्ले करने के लिए ही इस्तेमाल में लिया जाता है।

 वैसे तो लिंक सभी अलग-अलग कलर के हो सकते हैं लेकिन लिंक टेक्स्ट के स्टाइल को कस्टमाइज इसी के द्वारा किया जा सकता है।आइए जानते हैं लिंक क्या होता है, लिंग कितने प्रकार के होते हैं, इन सभी के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी इस लेख के माध्यम से आप सभी के लिए…

Link क्या होते हैं?

लिंक को हाइपरलिंक भी कहते हैं। हाइपरलिंक का शॉर्ट फॉर्म लिंक ही होता है। यह एक एचटीएमएल का ऑब्जेक्ट है इसके द्वारा हमें एक पेज से दूसरे पेज पर जाने में बहुत मदद मिल जाती है। जब भी उस पर क्लिक करते हैं तो आसानी से दूसरे पेज पर पहुंच जाते हैं। हाइपरलिंक लगभग सभी वेब पेज में आसानी से देखने को मिल सकते हैं। अगर सरल शब्दों में कहा जाए तो लिंक एक ऐसा HTML ऑब्जेक्ट की तरह होता है जो दो वेब पेज को जोड़ने का कार्य कर लेता है।

किसी भी वेब पेज में text, image and other HTML ऑब्जेक्ट पर लिंक अटैच हो सकते हैं। आज जर्नली सभी लिंक का कलर नीला होता है। इसमें आप चाहते हैं कि कलर चेंज हो तो HTML ओर CSS की मदद से इनकी कलर भी बदल सकते हैं। जब भी किसी टैक्स में लिंक अटैच होता है तो नॉर्मल ही उसका कलर ब्लू ही हो जाता है और वह अंडर लाइन भी हो जाता है। लेकिन आजकल सभी जगह से अंडर लाइन को रिमूव आप कर सकते है क्योंकि वेबसाइट में बिना अंडर लाइन के उसका लुक अच्छा दिखाई देता है।

किसी इमेज पर कोई लिंक का टेस्ट होता है तो आप उसको माउस की सहायता से उस इमेज पर लेकर जाते हैं जिसे एचटीएमएल में Hover कहते हैं तो इमेज का साइज या इफेक्ट बदल जाता है। जिससे पता लग जाता है कि लिंक अटैच हो गया है

लिंक के प्रकार

मुख्य रूप से लिंक तीन प्रकार के होते हैं..

1. इंटरनल लिंक/ internal link

इंटरनल लिंक वह होते हैं जब किसी भी टैग इमेज या अदर एचटीएमएल ऑब्जेक्ट पर क्लिक करने के बाद में उसी डोमेन के अंदर किसी दूसरे पेज पर आप पहुंच जाते हैं अर्थात किसी भी एक ब्लॉग पर पोस्ट करते हैं और आप दूसरे पेज पर पहुंच जाते हैं। उसको इंटरनल लिंक कहा जाता है। जब भी किसी वेबसाइट को ओपन कर दे होंगे या फिर आपने किया होगा तो आपने देखा होगा कि सभी वेबसाइट में मैन्युबार होता है, उस पर क्लिक कर दें के बाद में दूसरे पेज पर रीडायरेक्ट हो जाता है। अर्थात दूसरा पेज अपने आप ओपन हो जाता है, उसी को ही इंटरनल लिंक कहते हैं।

2. एक्सटर्नल लिंक / External link 

एक्सटर्नल लिंक वह होते हैं जिन पर क्लिक करने के बाद में एक डोमिन से किसी दूसरे specific डोमिन अर्थात किसी दूसरे डोमिन पर रीडायरेक्ट हो जाता है। वैसे लिंक जोकि एक्स्ट्रा नॉलेज के लिए किसी दूसरी वेबसाइट के लिंक को ऐड कर देते हैं या फिर किसी दूसरी वेबसाइट के लिंक को आप जिस वेबसाइट पर काम कर रहे हो। उसमें ऐड कर दिया जाता है। उसको एक्सटर्नल लिंक कहा जाता है।

3. बैक लिंक

इनबॉउंड या फिर बैक लिंक वह होते हैं। जिनमें आप अपने ब्लॉग पोस्ट को गूगल पर जल्दी से जल्दी रैंक करवा सकते हो इसमें जब कोई दूसरा ब्लॉगर आपके ब्लॉग है या फिर आपकी ब्लॉग पोस्ट के लिंक को अपनी पोस्ट में डाल देता है। तो उसको ही इनबॉउंड या ब्लैक लिंग कहा जाता है। ब्लैक लिंक आपके ब्लॉग और s.c.o. दोनों के लिए बहुत इंपोर्टेंट होता है। अगर आप बैक लिंग का सही जगह और सही तरीके से समायोजन करते हैं तो आपकी पोस्ट बहुत जल्दी गूगल पर रैंक करने लग जाती है। इसके अलावा आपके ब्लॉग की DA अर्थात डोमेन अथॉरिटी भी बढ़ जाएगी।

यह वह लिंक है जिनको आप दूसरे के ब्लॉक के लिंक अपने ब्लॉक के अंदर भी ऐड कर लेते हैं। उदाहरण के लिए मान लीजिए आप ने अपनी वेबसाइट पर उपलब्ध किसी भी ब्लॉक के अंदर किसी अन्य ब्लॉग में उपलब्ध किसी भी पोस्ट से संबंधित बाहर के लिंक को अपने ब्लॉग में डाल दिया है मतलब यह आपने अपने ब्लॉग में एक एक्सटर्नल लिंक को ऐड कर दिया है। इस तरह के लिंक आपको और अधिक जानकारी देने के लिए भी डालें या ऐड किए जाते हैं।

Conclusion

आज आपको इस पोस्ट के माध्यम से लिंक क्या होते हैं उसके बारे में जानकारी प्रदान की है। इसके अलावा लिंक के सभी प्रकार के बारे में भी आपको इस पोस्ट में बताया गया है। हमें उम्मीद है कि आपको जो भी हमने जानकारी दिया जाए जरूर पसंद आई होगी। इसी तरह की जानकारियों से आप जुड़े रहना चाहते हैं, हमारी वेबसाइट पर कर डिलीट कर सकते हैं।यह पोस्ट पसंद आए तो कमेंट करके जरूर बताएं।

Popular Post

PUBG mobile lite hack download

PUBG mobile lite hack download की पूरी Step-by-Step जानकारी

1
अगर आप इस लेख पर आए है तो हम उम्मीद करते हैं कि आप अब जी के बहुत बड़े फैन होंगे अगर आप चाहते...

Y2Mate YouTube Video Downloader- Download Audio, Video In HD Quality.

0
आज के इस डिजिटल युग मे एक जहाँ सोशल मीडिया ऍप्लिकेशन्स का प्रयोग अधिक प्रचलन में देखा जा रहा हैं, ऐसे में विभिन्न विभिन्न...

My Tools Town- Increase Like & Subscribers.

1
आज के समय मे जिस प्रकार से सोशल मीडिया ऐप्लकैशन पर लाइक व फॉलोवर्स का ट्रेंड बहुत ही तेजी से बढ़ रहा हैं, उसे...

जन सूचना अधिकार अधिनियम – RTI क्या हैं?

2
किसी भी प्रदेश मे बेहतर साशन व प्रसाशन को बनाए रखने के लिए समान अधिकार प्रदान किए जाते हैं। जिसके चलते कोई भी व्यक्ति...
kalyan chart

kalyan chart – कल्याण चार्ट की पूरी जानकारी

0
क्या आप बिल्कुल कम समय में अमीर बनना चाहते हैं? अगर हां तो आप इस वक्त बिलकुल सही जगह पर है। हम यह नहीं...