What is Agneepath Scheme अग्निपथ योजना क्या है

भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के द्वारा 14 जून को अग्निपथ योजना शुरू करने की घोषणा कर दी गई थी। इस योजना के अंतर्गत 4 साल के लिए सशस्त्र बलों के युवाओं की भर्ती की जाएगी। योजना के अंतर्गत आने वाले युवाओं को अग्निवीर कहा गया है। इसीलिए इस योजना का नाम अग्निपथ योजना रखा है। आज की इस पोस्ट में हम आपको अग्निपथ योजना क्या है। इसके बारे में विस्तार से जानकारी देंगे।

भारतीय सेना में प्रतिवर्ष भर्ती का आयोजन किया जाता है। लेकिन इस बार भर्ती सेना को लेकर बहुत बड़ा बदलाव सरकार के द्वारा कर दिया गया है। इस बदलाव के अंतर्गत जल, थल, वायु अर्थात आर्मी नेवी और एयरफोर्स के भर्ती होने वाले अग्नि वीरों की इस योजना के तहत भर्ती की जाएगी।

 सभी सैनिकों की भर्ती रैंक के हिसाब से अलग-अलग तरह से होगी। और यह सभी सैनिक तीनों सेनाओं के अग्निवीर कहलाएंगे। जल, थल, वायु, तीनों सेनाओं के अग्निवीर 4 साल तक के लिए ही निर्धारित रहेंगे। यह अग्नि वीर में से 25% को परमानेंट होने का मौका भी मिलेगा। और 90 दिन में आर्मी भर्ती की पहली रिक्रूटमेंट रैली भी हो जाएगी। 

हालांकि केंद्र सरकार के द्वारा जारी की गई। इस योजना से देश के युवा वर्ग बिल्कुल खुश नहीं है। बहुत से राज्यों में इस योजना के खिलाफ बहुत असंतोष नजर आ रहा है।

 तो आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि अग्निपथ योजना क्या है और इस योजना को शुरू करने का उद्देश्य क्या है अग्नीपथ योजना की सभी जानकारियां विस्तार से आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताएंगे आज का पोस्ट आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण रहने वाला है इसीलिए आप हमारी पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें…

आखिर क्या है “अग्निपथ योजना”

केंद्र सरकार के द्वारा देश के रक्षा मंत्री ने 14 जून को अग्निपथ योजना का शुभारंभ किया इस योजना के अंतर्गत 46000 युवाओं की भर्ती सशस्त्र बलों के अंतर्गत की जाएगी। इस योजना में जल थल वायु तीनों सेनाओं के युवाओं की भर्ती होगी। भर्ती के दौरान इन सभी युवाओं को अग्निवीर कहा जाएगा।

 सभी अग्नि वीरों की आयु 17 साल से लेकर 21 साल तक के बीच होनी चाहिए और इन सभी अग्नि वीरों का मासिक वेतन 30000 से 40000 तक रहेगा। योजना के अनुसार 25% युवाओं को तो देश में सेना के अंदर आगे बढ़ने का भी मौका दिया जाएगा। और 75% अग्नि वीरों को अपनी नौकरी 4 साल के बाद छोड़नी पड़ेगी।

अग्निपथ योजना के लिए सरकार का पक्ष

अग्नीपथ योजना के लिए भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बहुत ही पॉजिटिव पहलू जताया है। उन्होंने बताया कि देश के सभी युवा वर्ग के लोगों को सेना में भर्ती होना का पूरा मौका मिलेगा। और इससे देश की सुरक्षा भी मजबूत होगी। और नौजवानों को भी मिलिट्री सर्विस करने का पूरा मौका मिल जाएगा।

 इससे देश में रोजगार के भी बहुत अवसर दिए जाएंगे इसके अलावा सेना में रहते हुए जो एक्सपीरियंस सभी सैनिकों को मिलेगा उस से उनको विभिन्न क्षेत्रों में नौकरी आसानी से मिल जाएगी।

अग्निपथ योजना के लिए क्राइटेरिया

केंद्र सरकार के द्वारा हाल ही में अग्नीपथ योजना को शुरू किया गया है इसके लिए सरकार जल्द से जल्द सेना की भर्ती भी शुरू करने वाली है तो इस योजना के अंतर्गत कुछ एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया होने जरूरी हैं जिनकी जानकारी इस प्रकार से है

  • अग्निपथ योजना के लिए आवेदक की आयु 17 साल 21 साल तक के बीच की होनी चाहिए।
  • आवेदन करने वाले युवा कम से कम 12वीं में 50% अंकों के साथ पास होना चाहिए।
  • भर्ती होने वाले सभी युवाओं की 6 महीने तक की पूरी ट्रेनिंग होगी उसके बाद 3.5 साल तक सेना में उनको नौकरी करने का मौका दिया जाएगा।
  • भर्ती के लिए सरकार की नई गाइडलाइन जल्द से जल्द आपको पढ़ने को मिल जाएगी।

अग्नीपथ योजना के लिए युवा कर रहे हैं विरोध

आज देश के कई राज्यों में इस योजना के खिलाफ युवाओं में बढ़ा आक्रोश देखने को मिल रहा है। इसका प्रमुख कारण है कि युवाओं के लिए नौकरी का इसमें समय सीमा कम है और भी बहुत सी परेशानियां हैं। जिसकी वजह से युवा वर्ग के लड़के आक्रोश जता रहे हैं।

देश में सब जगह विरोध प्रदर्शन देखने को मिल रहा है क्योंकि सेना में शामिल होने के लिए युवा तैयारी करने के लिए कई सालों की मेहनत लगा देते हैं। उसके बाद वह तैयारी कर पाते हैं। लेकिन सेना में उनकी 4 साल की भर्ती किसी भी तरह से मंजूर नहीं है।

प्रदर्शन कर रहे छात्रों के लिए सरकार से इस योजना को तुरंत वापस लेने के लिए सभी युवाओं ने अपील की है। अगर सरकार इस तरह का कदम नहीं उठाती है तो शायद युवा वर्ग आक्रोश में सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने में लगे रहेंगे।

रिटायरमेंट के बाद क्या होगा अग्नि वीरों का

भारतीय सेना के लिए अग्निपथ योजना के अंतर्गत 4 साल की नौकरी के बाद में सभी अग्नि वीरों की सेवानिवृत्ति होने के बाद केंद्र सरकार और राज्य सरकार के द्वारा जितनी भी भर्ती सरकारी नौकरियों के लिए निकाली जाएगी उनमें सबसे पहले प्राथमिकता सरकार के द्वारा उनको मिलेगी।

सीआरपीएफ असम राइफल सेना में भर्ती होने वाले जवानों को प्राथमिकता मिलेगी उत्तर प्रदेश सरकार उत्तराखंड एमपी सरकार सभी स्टेट गवर्नमेंट के द्वारा जो भी पुलिस भर्ती निकाली जाएगी उसमें अग्नि वीरों को पहली प्राथमिकता देने की घोषणा सरकार के द्वारा कर दी गई है।

नौकरी के दौरान वीरगति प्राप्त होने पर

अग्निपथ योजना के अंतर्गत किसी भी अग्निवीर की अगर नौकरी के दौरान किसी भी मुठभेड़ में वीरगति को अगर प्राप्त हो गया है तो उसके परिवार वालों को लोन प्रीमियम इंश्योरेंस कवरेज 4800000 रुपए का दिया जाएगा और अगर सर्विस के दौरान उसकी मृत्यु हो गई है तो 4400000 रुपये की और अतिरिक्त धनराशि उसके परिवार को मिलेगी। इसके अलावा रिटायरमेंट के बाद 4 साल में जो 25% तनख्वाह का हिस्सा है, वह भी भुगतान कर दिया जाएगा।

Conclusion

आज की पोस्ट के माध्यम से हमने आपको अग्नीपथ योजना क्या है इसके बारे में जानकारी प्रदान किए हम उम्मीद करते हैं क्या आपको जो भी अग्निपथ योजना से संबंधित जानकारी दी है उसके बारे में सभी जानकारी पसंद आई होगी अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी तो इसको अपने दोस्तों के साथ अधिक से अधिक लाइक शेयर कीजिए और इस योजना से संबंधित किसी भी तरह के सुझाव के लिए आप हमारे कमेंट सेक्शन से भी जुड़ सकते हैं।

Popular Post

PUBG mobile lite hack download

PUBG mobile lite hack download की पूरी Step-by-Step जानकारी

1
अगर आप इस लेख पर आए है तो हम उम्मीद करते हैं कि आप अब जी के बहुत बड़े फैन होंगे अगर आप चाहते...

Y2Mate YouTube Video Downloader- Download Audio, Video In HD Quality.

0
आज के इस डिजिटल युग मे एक जहाँ सोशल मीडिया ऍप्लिकेशन्स का प्रयोग अधिक प्रचलन में देखा जा रहा हैं, ऐसे में विभिन्न विभिन्न...

My Tools Town- Increase Like & Subscribers.

1
आज के समय मे जिस प्रकार से सोशल मीडिया ऐप्लकैशन पर लाइक व फॉलोवर्स का ट्रेंड बहुत ही तेजी से बढ़ रहा हैं, उसे...

जन सूचना अधिकार अधिनियम – RTI क्या हैं?

2
किसी भी प्रदेश मे बेहतर साशन व प्रसाशन को बनाए रखने के लिए समान अधिकार प्रदान किए जाते हैं। जिसके चलते कोई भी व्यक्ति...
kalyan chart

kalyan chart – कल्याण चार्ट की पूरी जानकारी

0
क्या आप बिल्कुल कम समय में अमीर बनना चाहते हैं? अगर हां तो आप इस वक्त बिलकुल सही जगह पर है। हम यह नहीं...