NSA क्या होता है? What is NSA?

देश की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद का नेतृत्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के माध्यम से किया जाता है भारत के पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ब्रजेश मिश्रा से लेकर आज के समय में अजीत डीभाल तक पांच बड़े प्रशासनिक अधिकारियों ने इस पद को सँभाला है और अपनी तेज बुद्धि मता का परिचय दिया है।

NSA एक कार्यकारी सरकारी संस्था है इसका गठन 19 November 1998 को किया गया था राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद का वरिष्ठअधिकारी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार होता है देश के प्रधानमंत्री को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा नीती और मामलों पर सलाहकार देता है और रणनीतिकार एक सलाहकार के तौर पर अपनी जिम्मेदारी का निर्वाहन करता है एनएसए क्या होता है इसी विषय में आपको इस पोस्ट में हम बता रहे हैं इससे पूरा जरूर पढ़ें।

NSA

NSA क्या है?

NSA को रासुका राष्ट्रीय सुरक्षा कानून भी कहा जाता है इससे प्रदर्शनकारियों के माध्यम से किया गया है अपराध तथा साथ ही राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में संलिप्त पाये जाने पर उस कानून को धरा का उपयोग कर प्राधिकरण के माध्यम से किया जाता है रासुका का मतलब राष्ट्रीय सुरक्षा कानून या अधिनियम (National security Act NSA) हैl

 यदि इसके अंतर्गत सजा की बात करें तो आप भी जान लें कि इसमें रियासत में लिए एक व्यक्ति को अधिकतम वर्ष जेल में रखा जाता है रासुका एनएसए के अंतर्गत यदि सरकार को यह लगता है कि कोई भी व्यक्ति देश की सुरक्षा सुनिश्चित करने वाले कामों को करने से रोक रहा है तो वह उसे गिरफ्तार करने की शक्ति प्रशासन को दे देती हैl

Also Read: CT Scan ki Full Form kya hai

NSA के तहत गिरफ्तारी

हम आपको बताएंगे कि यदि कोई भी व्यक्ति इस कानून के अंतर्गत गिरफ्तार हो जाता है तो उसके कारवास की अबधि क्या होती है? राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के प्रावधान के आधार पर सरकार किसी भी संदिग्ध व्यक्ति को बिना किसी 12 महीने तक जेल में रख सकता हैl

 यदि सरकार को उसके खिलाफ़ नए सबूत मिल गए तो इस अवधि को भी बढ़ा सकता है गिरफ़्ताररl व्यक्ति जिसे भी राज्य का हो उसके राज्य के जुड़े अधिकारी जब तक सही सबूत अनुमति नहीं लेता तब ताकि यह उस आदमी को गिरफ़्तार नहीं करता ज्यादा से ज्यादा व उस व्यक्ति को सिर्फ दिन तक ही रख सकता हैl

एग्जाम्पल यह होता है कि चंद्रशेखर रावण जो कि भीम आर्मी के संस्थापक हैं उन्हें भी इस रासुका के तहत गिरफ्तारी के बाद 1 साल तक जेल में रखा गया था बाद में उन्हें छोड़ दिया गया आपको यह ध्यान रखना ज़रूरी है कि गिरफ्तारी के आदेश जिला मजिस्ट्रेट नहीं हों पुलिस आयुक्त अपनी जुड़े क्षेत्रधिकारी के दौरान जारी होना चाहिए।

Also Read: IOS 16 Release date, feature, and how to download?

NSA की आलोचना (Critic cists of NSA)

राष्ट्रीय गुनहगार ट्राॉर्ड बयूरो के माध्यम से बहुत सारे मामलों से इस कानून के तहत गिरफ्तारी को शामिल नहीं किया जा सकता है क्योंकि इस कानून के तहत बहुत कम एफआइआर दर्ज होती है जिससे हम उसको सही संख्या नहीं मिल पाती और कितना लोग हर वर्ष गिरफ्तार होते हैंl

ये भी नहीं पता चलता जैसा आपको पता है कि यह एक तरह का अरेस्ट वॉरेंट है जिसमें सरकार किसी भी संदेह जनक व्यक्ति से बिना किसी कारण बताए रफ्तार कर सकता है और कुछ अब भी तक अपना वकील भी रखने नहीं देता इस कानून की तुलना अंग्रेजों के रोलट एक्ट (Rowlett Act) से भी की जाती है और बहुत जानकर ऐसा भी कहते हैं NSA को एकसट्रा जुडीशल पावर के तौर पर सरकार उपयोग करते है बहुत समय जा कानून लोगों के लिए ही खराब बन जाती हैl

निष्कर्ष = आज के इस पोस्ट में हमने आपको बताया है एनएसए क्या है ओर एनएसएस के तहत गिरफ्तारी तथा एनएस के आलोचना उम्मीद यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें।

Popular Post

PUBG mobile lite hack download

PUBG mobile lite hack download की पूरी Step-by-Step जानकारी

1
अगर आप इस लेख पर आए है तो हम उम्मीद करते हैं कि आप अब जी के बहुत बड़े फैन होंगे अगर आप चाहते...

Y2Mate YouTube Video Downloader- Download Audio, Video In HD Quality.

0
Y2Mate YouTube Video Downloader: आज के इस डिजिटल युग मे एक जहाँ सोशल मीडिया ऍप्लिकेशन्स का प्रयोग अधिक प्रचलन में देखा जा रहा हैं,...

My Tools Town- Increase Like & Subscribers.

1
आज के समय मे जिस प्रकार से सोशल मीडिया ऐप्लकैशन पर लाइक व फॉलोवर्स का ट्रेंड बहुत ही तेजी से बढ़ रहा हैं, उसे...

जन सूचना अधिकार अधिनियम – RTI क्या हैं?

2
किसी भी प्रदेश मे बेहतर साशन व प्रसाशन को बनाए रखने के लिए समान अधिकार प्रदान किए जाते हैं। जिसके चलते कोई भी व्यक्ति...
kalyan chart

kalyan chart – कल्याण चार्ट की पूरी जानकारी

0
क्या आप बिल्कुल कम समय में अमीर बनना चाहते हैं? अगर हां तो आप इस वक्त बिलकुल सही जगह पर है। हम यह नहीं...